‘आपालकाल’ को लेकर भाजपा ने मनाया ‘काला दिवस’

भाजपा प्रदेश कार्यालय मे हुआ कार्यक्रम

रांची : देश में 25 जून 1975 को लगाये गये ‘आपालकाल’ को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने शनिवार को ‘काला दिवस’ मनाया। भाजपा प्रदेश कार्यालय सहित राज्य के सभी जिलों में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। भाजपा प्रदेश कार्यालय में कार्यालय में प्रदेश अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश की अध्यक्षता में कार्यक्रम आयोजित कर काला दिवस मनाया गया। अवसर पर आपातकाल के दौरान मीसा बंदी और भूमिगत रहकर आंदोलन करनेवाले लोगों को प्रदेश अध्यक्ष ने अंगवस्त्र और नारियल देकर सम्मानित किया। प्रदेश अध्यक्ष ने अपने संबोधन में कहा कि आपातकाल भारत के लोकतंत्र में काला अध्याय है। इंदिरा गांधी के शासन में सत्ता के लिए हत्याएं हुई। कांग्रेस का इतिहास लोकतंत्र विरोधी रहा है। आज सोनिया गांधी और राहुल गांधी को न्यायपालिका और चुनाव आयोग पर भी विश्वास नहीं है। उन्होंने कहा कि ये वही कांग्रेस पार्टी है जिसने तानाशाही के बल पर लोकतंत्र के 34988 सेनानियों को मीसा में बंदी बनाया, 75818 लोगों को डीआईआर के तहत जेल में बंद किये गये। एक लाख से ज्यादा लोग लोकतंत्र की रक्षा के लिये आजाद भारत मे गिरफ्तार हुए। एक दिन में लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई चार सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन थोपने वाली कांग्रेस पार्टी ही है। देश मे सर्वाधिक राष्ट्रपति शासन थोपने वाली पार्टी कांग्रेस ही है। कहा कि आज भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में इतिहास को ठीक करने की कोशिश की जा रही है। कार्यक्रम का संचालन प्रेम मित्तल और धन्यवाद ज्ञापन अजय राय ने किया।

मौके पर डॉ सूर्यमणि सिंह, प्रमोद मिश्र, रामचंद्र केसरी, सूरज मंडल, प्रदेश महामंत्री सह सांसद आदित्य साहू, बालमुकुंद सहाय, काजल प्रधान, हेमंत दास, शिवपूजन पाठक, प्रदीप सिन्हा, प्रतुल शाहदेव, अमित सिंह, योगेंद्र प्रताप सिंह, रवि भट्ट, राजश्री जयंती, तारिक इमरान, मुनचुन राय, लक्ष्मी कुमारी, आरती कुजूर, पवन साहू, ललित ओझा, लक्ष्मी चंद्र दीक्षित, सोना खान, संजय जायसवाल, अशोक बड़ाइक सहित अन्य शामिल थे।

By Admin

error: Content is protected !!