रांची: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 77वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मोरहाबादी मैदान रांची में आयोजित राजकीय समारोह में ध्वजारोहण कर सभी को स्वंतत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी।

मुख्यमंत्री ने कहा सरकार ने संकल्प लिया है कि राज्य की जनता के सहयोग से एक सशक्त झारखण्ड का निर्माण करेंगे। जनभावना और जन-भागीदारी के साथ हमारी सरकार एक ऐसी व्यवस्था को आकार देने के लिए प्रयासरत हैं, जहाँ गरीब, वंचित, मजदूर, किसान, आदिवासी, पिछड़े, दलित सबको उनका अधिकार मिल सके।

उन्होंने हमने राज्य के लोगों से वादा किया था कि सभी को 3 कमरे का आवास उपलब्ध करवाएंगे। इसके तहत अबुआ आवास योजना शुरू किया जाएगा। आगामी 2 वर्ष में लगभग ₹15 हजार करोड़ से ज्यादा खर्च कर राज्य सरकार अपनी निधि से जरूरतमंद लोगों को आवास उपलब्ध करवाएगी। वर्ष 2021 एवं वर्ष 2022 में आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के आयोजन से हमें उत्साहवर्द्धक परिणाम मिले हैं। इसे आगे बढ़ाते हुए इस वर्ष भी ‘आपकी योजना -आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का संचालन किया जायेगा।

वहीं नियुक्ति की प्रक्रिया को तेज करते हुए विभिन्न कोटि के लगभग 38 हजार पदों पर नियुक्ति के लिए अधियाचना JSSC को भेज दी गई है, जिसमें से 36 हजार पदों पर नियुक्ति हेतु विज्ञापन प्रकाशित किया जा चुका है। शीघ्र इन पदों पर नियुक्ति की प्रक्रिया पूर्ण कर ली जायेगी। युवाओं के भविष्य को सुरक्षित करने तथा प्रतियोगी परीक्षाओं में पारदर्शी चयन प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए झारखण्ड प्रतियोगी परीक्षा विधेयक, 2023 विधान सभा से पारित कराया गया है। सरकार प्रयास कर रही है कि नियुक्तियों में झारखण्ड के लोगों को उचित हक मिले।

उन्होंने कहा कि खुशहाल किसान खुशहाल झारखण्ड के संकल्प के लिए सरकार द्वारा किसानों के हित के लिए 88 योजनाएं चलाई जा रही है। पिछले वर्ष सुखाड़ की चुनौतियाँ हमारे सामने थी, इस कठिन समय में हमारी सरकार हर कदम पर किसानों के साथ खड़ी रही। यद्यपि हमें केन्द्र सरकार से अपेक्षित सहायता नहीं मिली, फिर भी राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री सुखाड़ राहत योजना तथा झारखण्ड कृषि ऋण माफी योजना के माध्यम से किसानों को हर संभव सहायता पहुँचाने का प्रयास किया गया।

मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजनान्तर्गत ₹1000 करोड़ से लगभग 2000 KM पथों के निर्माण का लक्ष्य है। अब तक 30 योजनाएं पूरी की जा चुकी है जिसमें 93 KM पथ का निर्माण किया जा चुका है। मुख्यमंत्री ग्राम सेतु योजना अन्तर्गत 70 पुल निर्माण का लक्ष्य है। झारखण्ड की अस्मिता और पहचान को अक्षुण्ण रखते हुए सरकार विकास की ऊंचाइयों को छूने का प्रयास कर रही है। राज्यवासियों की समस्याओं के समाधान के लिए 24 घंटे काम कर रही है। विकास की यात्रा में सबको साथ लेकर आगे बढ़ने का प्रयास हो रहा है।

By Admin

error: Content is protected !!