विश्व आदिवासी दिवस पर विस्थापित संघर्ष मोर्चा ने किया कार्यक्रम

बड़कागांव  :  विस्थापित संघर्ष मोर्चा के द्वारा उरीमारी कांटा घर के समीप लेबर शेड में विश्व आदिवासी दिवस मंगलवार को मनाया गया। जिसकी अध्यक्षता समिति के सचिव महादेव बेसरा ने किया। मौके पर समिति के सचिव महादेव बेसरा ने कहा कि आदिवासियों को अपने हक अधिकार के लिए हमेशा लड़ना पड़ा है। आदिवासी की एकता और अखंडता बनी रहे इसके लिए हम सभी को मिलजुल कर प्रयास करना होगा।  शिक्षा एक ऐसी ताकत है जिसके दम पर हम अपनी पहचान बनाए रखते हुए दुनिया के साथ कदम से कदम मिलाकर चल सकते हैं। मौके पर मुख्य रूप से दशाराम हेम्ब्रोम, कानू मरांडी, चरका करमाली, सुखदेव सोरेन, रवि पवरिया, रमेश किस्कू, राजेंद्र किस्कू, वासुदेव सोरेन, डॉ जीआर भगत, सिगू हेम्ब्रोम, मनु टूडू, विजय करमाली, महेश करमाली, बिरजू सोरेन, रतन पवरिया, राज कुमार, विनोद प्रजापति, कुला प्रजापति, नंदू प्रजापति, सीतामुनी देवी, फूलमती देव सहित कई लोग मौजूद थे।

हेसाबेड़ा में पौधरोपण कर मनाया विश्व आदिवासी दिवस

विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर उरीमारी हेसाबेड़ा में वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन मंगलवार को किया गया। मौके पर उरीमारी पंचायत समिति सदस्य गीता देवी ने कहा कि पेड़ पौधे हमें जरूर लगाना चाहिए। पेड़ पौधों के लगाने से हमें कई लाभ है जहां एक तरफ को शुद्ध हवा देती है वहीं दूसरी तरफ फल, फूल, औषधि एवं जलावन भी हमें इससे मिलता है। ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रों में वृक्षारोपण हो इसके लिए हम सबको मिलकर सामूहिक रूप से प्रयास करने की जरूरत है। वृक्ष लगाने वाला ही सिर्फ इससे लाभान्वित नहीं होता बल्कि वह आसपास के पूरा क्षेत्र इससे लाभान्वित होता है। पेड़ पौधे से वातावरण को शुद्ध करता है इसीलिए ज्यादा से ज्यादा पौधा रोपण हो और इसका लाभ हमारे आने वाली पीढ़ियों को मिल सके। इस दौरान फलदार एवं छायादार दर्जनों पौधे लगाए गए। मौके पर मुख्य रूप से पंचायत समिति सदस्य गीता देवी, जलसहिया सीतामुनी देवी, वार्ड सदस्य फूलमती देवी, तेतरी देवी, शांति देवी, फुलमुनी देवी, देवन्ती देवी, तेतरी देवी, रंधनी देवी, विशाल मरांडी, सचिन, शिवलाल, रामनाथ सहित कई ग्रामीण उपस्थित थे।

By Admin

error: Content is protected !!