पतरातू: पोल पर मरम्मती के दौरान करंट की चपेट में आकर बिजली मिस्त्री की मौत

पतरातू प्रखंड कार्यालय परिसर में नौकरी और मुआवजे को लेकर गहमागहमी

रामगढ़: पतरातू थाना क्षेत्र के खैरा मांझी चौक के निकट गुरुवार को एक पोल पर फॉल्ट की मरम्मती के दौरान करंट की चपेट में आकर बिजली मित्री की मौत हो गई। मृतक राजेंद्र कुमार रवि (51 वर्ष) शांति मुहल्ला, पतरातू का रहनेवाला बताया जाता है। मौत के बाद पतरातू प्रखंड मुख्यालय में मृतक के परिजनों को नौकरी और मुआवजे को लेकर गहमागहमी चल रही है। 

घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के अधीन काम देख कर रही प्राईवेट एजेंसी का बिजली मिस्त्री राजेंद्र कुमार रवि गुरुवार की सुबह खैरा मांझी चौक के निकट बावनधारा में मरम्मती करने के लिए पोल पर चढ़ा। इस क्रम में लोकल टर्मिनल लाइन में प्रवाहित करंट की चपेट में आ गया। एक झटके के साथ वह पोल से नीजे जा गिरा, जिससे उसके सिर में गंभीर चोट आई।

आननफानन में उसके पतरातू प्रखंड कार्यालय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंंद्र ले जाया गया। जहां राजेंद्र के मौत की पुष्टि कर दी गई। घटना के बाद परिजन और स्थानीय लोग प्रखंड मुख्यालय परिसर में जुट गए। हादसे के बाद जहां मृतक के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है, वहीं स्थानीय लोग बिजली विभाग की बड़ी लापरवाही बताते हुए मृतक के आश्रितों को नौकरी और मुआवजा देने की मांग पर अड़ गए हैं।

हालांकि मामले की सूचना बिजली विभाग और प्राईवेट कंपनी के अधिकारियों को दे दी गई है। खबर लिखे जाने तक कोई वरीय अधिकारी नहीं पहुंच सके हैं। मृतक अपने पीछे पत्नी, पुत्र और विवाहिता पुत्री छोड़ गया है।

खबर अपडेट: 10 लाख मुआवजे और प्राइवेट एजेंसी में आश्रित को नौकरी पर बनी सहमति

मामले में देर शाम पतरातू अंचल अधिकारी के कार्यालय में वार्ता हुई। जिसमें मृतक बिजली मिस्त्री की नियोक्ता कंपनी मेसर्स आईपीएसजी प्राइवेट लिमिटेड की ओर 10 लाख मुआवजे का भुगतान पर सहमति बनी। तत्काल नकद एक लाख रुपये का भुगतान किया गया और बाकी नौ लाख रुपये का भुगतान बैंक में करने की बात तय हुई। साथ ही उक्त कंपनी में मृतक के आश्रित को नौकरी और मृतक के बीमे की रकम यथासमय उसकी पत्नी को उपलब्ध कराने पर सहमति बनी।

By Admin

error: Content is protected !!