दशकों बाद आज भारत की सरजमीं पर ‘चीता’

मध्यप्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में रखे गये 8 चीते

•  नामिबिया का भारत को तोहफा

Khabarcell.com

भारत से 1952 में लुप्त घोषित वन्यजीव ‘चीता’ वर्षों बाद देश की सरजमीं पर देखा जा रहा है। नामिबिया सरकार से हुए अनुबंध के बाद आठ चीतों को विमान से भारत लाया गया। शनिवार सुबह 7:55 पर विमान ग्वालियर एयरबेस पहुंचा। यहां से हैलीकॉप्टर द्वारा श्योपुर जिला स्थित कूनो नेशनल पार्क ले जाया गया। जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में तीन चीते नये बाड़े में छोड़े गये। यहां उंचे मंच से प्रधानमंत्री ने खुद चीते की तस्वीरें लीं। बताया जाता है कि आठ चीतों में तीन नर और पांच मादा है। भारत पहुंचने पर चीतों की मेडिकल जांच भी की गई। सभी स्वस्थ्य बताये जा रहे हैं।


अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये दुर्भाग्य रहा कि 1952 में चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया गया। उनके पुनर्वास के लिए दशकों तक प्रयास नहीं किया गया। आज देश चीतों के पुनर्वास के लिए पूरी उर्जा के साथ जुट गया है। पीएम ने इसके लिए नामिबिया की सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया। वहीं इस अवसर मध्यप्रदेश के राज्यपाल मंगू भाई पटेल और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मौजूद रहे।

By Admin

error: Content is protected !!