लंपी स्किन बीमारी को लेकर सावधानी बरतें पशुपालक

Khabarcell.com

झारखंड राज्य के कुछ जिलों के पशुओं में लंपी स्किन नामक डिजीज फैलने की सूचना प्राप्त हुई है। इस बिमारी का फैलाव मक्खी-मच्छरों से होता है। इससे पशुओं के त्वचा पर गांठ बन जाती है, बुखार आता है, पीड़ित गर्भवती पशुओं का गर्भपात भी हो सकता है। कुछ मामलों में पशुओं का एक पैर भी काम नहीं करता है। ऐसी स्थिति में पशुओं को बीमारी से बचाने के लिए पशुपालकों को सावधानी बरतने की आवश्यकता है। उक्त आशय की जानकारी पाकुुुड़ जिला पशुपालन पदाधिकारी डॉ. कमलेश्वर कुमार भारती ने दिया। उन्होंने बताया कि उक्त बीमारी से बचाव हेतु  अपने पशुओं की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें। अगर किसी पशुओं में उपरोक्त लक्षणों में से किसी भी प्रकार का लक्षण दिखाई देता है, तो तुरंत अपने नजदीकी पशु चिकित्सक को सूचित करेंगे, ताकि पशुओं का ससमय इलाज किया जा सके। लंपी स्किन बीमारी से बचाव के लिए जिले में एक या दो दिनों में टीका उपलब्ध हो जाएंगे। टीका आने के बाद तुरंत ही वैक्सीनेशन चालू कर दिया जाएगा।

By Admin

error: Content is protected !!