भोगनाडीह में शहीद सिद्धो-काहू को मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

• साहिबगंज म़े फोसिल पार्क का किया उद्घाटन
• हजारीबाग में पीडब्ल्यूडी चौक पर किया प्रतिमा का अनावरण

Khabarcell.com

हुल क्रांति दिवस पर गुरुवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन वीर शहीद सिद्धो-कान्हू के स्थल भोगनाडीह (साहिबगंज) पहुंचे। जहां उन्होंने सिद्धो-कान्हू स्थल पर पूजा अर्चना की और शहीद सिद्धो-कान्हू द्वार का विधिवत किया। इसके उपरांत शहीदों के आवास स्थित प्रतिमाओं पर माल्यार्पण कर नतमस्तक हुए। यहां मुख्यमंत्री ने शहीदों के वंशजों से भी मुलाकात की। अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासी समाज अपने सम्मान और अधिकार के लिए लड़ना जानता है। इसका उदाहरण शहीदों की भूमि भोगनाडीह है। जहां अंग्रेजों से आदिवासी समाज की रक्षा करते हुए वीर सिद्धो- कान्हू.ने प्राणों की आहुति दे दी।

वहीं साहिबगंज के गुर्मी पहाड़ में मुख्यमंत्री ने फोसिल पार्क सह ऑडीटोरियम का उद्घाटन किया। पार्क का अवलोकन करते हुए उन्होंने खुशी जाहिर की। कहा कि हमारी धरोहरों को सहेजना हमारा कर्तव्य है।

साहिबगंज से मुख्यमंत्री हजारीबाग में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने हजारीबाग के पीडब्लूडी चौक पर सिद्धो-कान्हू की प्रतिमा का अनावरण किया। इसके साथ ही नया नामकरण करते हुए पीडब्ल्यूडी चौक का नाम सिद्धो-कान्हू चौक कर दिया गया। अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि मानव सभ्यता का विकास कैसे हुआ ये झारखंड पूरे विश्व को बतायेगा। विश्व में जो चीजें बमुश्किल से मिलती हैं, वो झारखंड में भरपूर है। साहिबगंज का फोसिल पार्क इसका बेहतर उदाहरण है। पार्क देखने योग्य है। आगे उन्होंने कहा कि राज्य के महापुरुषों और शहीदों को पूरा सम्मान देना पहली प्राथमिकता है। वहीं हजारीबाग आगमन पर मुख्यमंत्री को हैंलीपैड पर गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। झामुमो और कांग्रेस के नेताओं-कार्यकर्ताओं नें उनका स्वागत किया।

समारोह में विधायक मनीष जायसवाल,बरकटठा विधायक अमित यादव, बड़कागांव विधायक अंबा प्रसाद, बरही विधायक उमाशंकर अकेला, रामगढ़ विधायक ममता देवी सहित अन्य मौजूद रहे।

By Admin

error: Content is protected !!