रांची : उपायुक्त राहुल कुमार सिन्हा ने की जिला स्तरीय कोविड-19 टास्क फोर्स की बैठक

रांची : सावन के दौरान रांची के पहाड़ी मंदिर सहित प्रमुख शिवालयों में कोविड-19 जांच की व्यवस्था होगी। उपायुक्त रांची श्री राहुल कुमार सिन्हा ने जिला स्तरीय कोविड-19 टास्क फोर्स की बैठक के दौरान इस संबंध में पदाधिकारियों को आवश्यक तैयारी करने के निर्देश दिये। समाहरणालय ब्लॉक ए स्थित उपायुक्त सभागार में आयोजित बैठक में कोविड-19 संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के लिए गठित विभिन्न कोषांगों के वरीय एवं नोडल पदाधिकारी उपस्थित थे।

टेस्टिंग, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट पर ध्यान

बैठक के दौरान श्री राहुल कुमार सिन्हा ने कहा कि जिला में कोविड संक्रमण के रोकथाम के लिए जांच और बढ़ाया जायेगा, जितने भी टेस्टिंग किट हैं उनका उपयोग कर संक्रमित व्यक्तियों की पहचान की जाएगी। उन्होंने बताया कि 80 हजार रैपिड एंटीजन टेस्ट किट और 48 हजार वीटीएम टेस्ट किट हैं, जिनके इस्तेमाल के लिए सभी एमओआईसी को निर्देश दिया गया है कि सभी टीमों को किट उपलब्ध कराया जाए और माइक्रो प्लान बनाकर जांच की जाए। उपायुक्त द्वारा एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और भीड़भाड़ वाले इलाकों में जांच कर संक्रमित व्यक्तियों की पहचान का निदेश दिया गया है।

प्रमुख शिवालयों में होगी कोविड जांच की व्यवस्था

सावन को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा रांची के पहाड़ी मंदिर सहित प्रमुख शिवालयों पर कोविड-19 जांच की व्यवस्था की जाएगी। जिला प्रशासन की टीम श्रद्धालुओं की जांच करेगी। उपायुक्त ने कहा कि विधि व्यवस्था संधारण के साथ सावन के मद्देनजर मजिस्ट्रेट और पुलिस बल की तैनाती भी की जाएगी। उपायुक्त ने रांची वासियों से कोविड-19 की गाइड लाइन चालू करने की अपील की है

किशोरों के टीकाकरण पर होगा फोकस

जिला में कोविड-19 टीकाकरण की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने 12-14 और 15-17 वर्ष आयु वर्ग के टीकाकरण पर फोकस करने का निर्देश दिया। उन्होंने बताया कि जिला में 18 प्लस टीकाकरण कार्य 95 प्रतिशत तक पूरा हो चुका है। 12-14 और 15-17 आयु वर्ग के टीकाकरण पर फोकस करते हुए उन्होंने लक्ष्य प्राप्ति का निर्देश दिया।

माइक्रोप्लानिंग के साथ होगा स्कूली बच्चों का टीकाकरण

बैठक के दौरान उपायुक्त ने प्रखंड स्तर पर टीकाकरण के लिए संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी को ब्लॉक लेवल टास्क फोर्स की बैठक करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि बैठक में बीईईओ, बीआरपी, सीआरपी और सीडीपीओ को भी बुलाएं। उन्होंने कहा कि स्कूलवार बच्चों की संख्या कितनी है, इसकी जानकारी एकत्र कर माइक्रो प्लानिंग करें और टीम को टीकाकरण के लिए स्कूल भेजें। उन्होंने कहा कि स्कूल के प्रिंसिपल का दायित्व होगा कि वह बच्चों का आधार कलेक्ट करें और उन्हें टीकाकरण के के लिए मानसिक रूप से तैयार करें।

रांची जिला में कोविड के सक्रिय मामले के समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने सभी संक्रमितों से कॉल सेंटर द्वारा संपर्क सुनिश्चित किये जाने का निदेश दिया। डॉक्टरी परामर्श और अन्य सुविधाएं उन तक ससमय पहुंचाने का निदेश उपायुक्त द्वारा दिया गया। उपायुक्त ने बताया कि कोई भी व्यक्ति गंभीर रूप से संक्रमित नहीं है अगर ऐसा कोई मरीज मिलता है तो उसे हाई लेवल ट्रीटमेंट भी उपलब्ध कराई जाएगी।

By Admin

error: Content is protected !!