विस्थापित ग्रामीणों ने पतरातू अंचल कार्यालय का किया घेराव

एनटीपीसी और जेएसपीएल पर लगाया घोर अनियमितताओं का आरोप

रामगढ़ : पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत पतरातू प्रखंड के विभिन्न पंचायतों से बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने मंगलवार को जनाक्रोश रैली निकालकर पतरातू अंचल कार्यालय का घेराव किया। जयनगर से सैकड़ो की संख्या में महिला और पुरुषों ने रैली निकाली। एनटीपीसी और जेएसपीएल कंपनी के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सभी प्रखंड सह अंचल मुख्यालय पतरातू पहुंचे। जहां अंचल कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया गया।
ग्रामीणों ने बताया कि एनटीपीसी और जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड की मनमानी और अनियमितताओं को लेकर 10 दिनों का अल्टीमेटम देते हुए अंचलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया था। जिसपर 10 दिनों के बाद भी अधिकारी कोई पहल नहीं कर रहे हैं।
विस्थापित नेता सह पूर्व जिला पार्षद झरी मुंडा ने कहा कि एनटीपीसी और जिंदल कंपनी विस्थापितों का अधिकार छीन रही है। प्रशासनिक अधिकारियों की मिलीभगत से यहां के रैयतों का लंबे अरसे से शोषण किया जा रहा है। जमीन लेने के वर्षों बाद भी रैयतों को नौकरी नहीं दी जा रही है। ग्रामीणों को इन कंपनियों से किसी प्रकार की सुविधा नहीं मिल रही है। जमीन गंवाकर रैयत गरीबी और बेरोजगारी झेल रहे है।

वहीं पतरातू बीडीओ और सीओ ने ग्रामीणों को पहल का भरोसा दिलाया। जिसके बाद ग्रामीण वापस लौट गये। आंदोलन में रामदास बेदिया, पंचम सोनी, सागर सोनी, अजय मुंडा, अभिषेक सोनी, आदित्य सोनी, बादल प्रसाद, रविंदर यादव, अनिल सोनी, जगदीश राम, नाथूराम राणा सिंह, राजू मुंडा, मनोज मुंडा, विक्की सोनी, सुखेंद्र सिंह, रमेश साहू, महानंद सुनार, विकास गोप, आकाश अग्रवाल, रंजीत यादव सावित्री देवी, राधिका कुमारी, देवंती देवी सहित कई शामिल रहे।

By Admin

error: Content is protected !!