सोरेन परिवार ने राज्य को लूट अपनी प्रोपर्टी का साम्राज्य खड़ा किया  : बाबूलाल मरांडी

बाबुलाल मरांडी ने शिबू सोरेन परिवार पर लगाये गंभीर आरोप

>झारखंड सहित अन्य राज्यों में 108 बड़ी संपत्ति की बात कही

रांची : भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय में मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। जिसमें भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने शीबू सोरेन और हेमंत सोरेन पर गंभीर आरोप लगाये। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की शुरुआत करते हुए कहा कि
जब जब राज्य में हेमंत सोरेन पर जब संकट आता है या हेमंत सोरेन की सरकार संकट से घिरती है वे आदिवासी कार्ड खेलते हैं। फंसने के डर से झामुमो सहित पूरा कुनबा ट्राइबल कार्ड खेलना शुरू कर देता है। ये स्वयं को आदिवासी कहते हैं और फंसने पर अपने आप को बचाने के लिए देश के सबसे नामी गिरामी वकीलों को हायर करते हैं। मेरी जानकारी में राज्य में ऐसा कोई और ट्राइबल नहीं जो इतने बड़े वकील हायर कर सके। इनका व्यवहार ही पूरी तरह से सामंतवादी है।

आगे बाबूलाल मरांडी ने कहा कि सीबीआई या इनकम टैक्स की रिपोर्ट में ऐसा दर्शाया गया है कि शीबू सोरेन परिवार ने 108  बड़ी परिसंपत्तियों का साम्राज्य खड़ा किया गया है। श्री श्री 108 शीबू सोरेन ने झारखंड सहित दूसरे राज्यों में भी प्रोपर्टी खड़ी की है। 33 संपत्तियों को ही एलेक्शन कमीशन के सामने डिक्लेयर किया है। बाकि संपतियां अन डिक्लेयर हैं। ये संपत्ति सोरेन परिवार ने 12-14 वर्ष झारखंड राज्य बनने के बाद ही खड़ी की हैं। उसपर ये लोग कहते हैं कि हमलोग गरीब आदिवासी हैं। इनकी कुछ बेनामी संपति तो मैं भी जानता हूं। हाई कोर्ट में जब पीआईएल लगता हैं तो बचने के लिए बड़े से बड़ा वकील खड़ा करने लगते हैं। डर जाते हैं कि फंस जाएंगे, इसलिए कोशिश करते हैं कि जांच ही नहीं हो। जब आपने कुछ गलत ही नहीं किया तो जांच से डरते क्यों हैं। जांच हो जाने दिजीए सब क्लियर हो जाएगा। आप कहां से इतने पैसे लाए और इतनी प्रोपर्टी कैसे खड़ी की उसका रिसोर्स बता दिजीए सब साफ हो जाएगा ।

उन्होंने कहा कि – 10-12 साल में इतनी प्रोपर्टी राज्य के किसी आदिवासी ने नहीं खड़ी नहीं कि होगी। झारखंड में हाल यह है कि बहुत सें आदिवासी परिवारों को पास जरा सी भी जमीन नहीं है। जमीन के अभाव में उनके लिए प्रधानमंत्री आवास भी नहीं बनता है। उनके लिए सरकार दो कट्ठे जमीन भी बंदोबस्त नहीं कर देती। गैर मजरूआ जमीन पर रहने पर भी बुलडोजर चला दे रहे हैं। इनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में आना चाहिए । एक जांच में सिर्फ शीबू सोरेन कि संपत्ति 250 करोड़ की बताई गई है, जबकि शीबू सोरेन अपने नाम पर दो करोड़ की बता रहे हैं। बाकि परिवार की कहां कहां और कितनी संपत्ति है यह जांच में ही पता चल पाएगा। बाबूलाल मरांडी ने कहा कि बिना सही जानकारी मैं कभी कोई बात नहीं कहता, ये सभी जानते हैं। सोरेन परिवार ने राज्य को सिर्फ लूटने का काम किया है।  इनके परिवार तंत्र ने पूरे लोकतंत्र को डैमेज कर रखा है। राज्य के लोगों को जानना चाहिए कि जिन लोगों को हमने सत्ता पर बैठाया है वे क्या कर रहे हैं। सत्ता का उपयोग अपने और अपने परिवार के लिए कर रहे हैं या फिर यहां के लोगों के लिए कर रहे है।

By Admin

error: Content is protected !!