आतंकवाद और कट्टरवाद से मिलकर लड़ेंगे भारत-बांग्लादेश

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भारत के दौरे पर

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा बांग्लादेश के साथ रिश्ते महत्वपूर्ण

Khabarcell.com

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और उनके साथ भारत के दौरे पर आये डेलिगेट्स का स्वागत किया। संयुक्त रूप से प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने  कहा कि पिछले वर्ष हमने बांग्लादेश के स्वतंत्रता की पचासवीं वर्षगांठ, हमारे डिप्लोमेटिक संबंधों की स्वर्ण जयंती और बंग बंधु शेख मुजीबुर्रहमान की जन्म शताब्दी को एक साथ मनाया था। पिछले वर्ष दोनों देशों ने पहला मैत्री दिवस साथ मिलकर पूरी दुनिया में मनाया था।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री शेख हसीना के नेतृत्व में बांग्लादेश ने उल्लेखनीय प्रगति किया है। बीते कुछ वर्षों में हमारा आपसी सहयोग हर क्षेत्र में बढ़ा। आज बांग्लादेश भारत का सबसे बड़ा डेवलपमेंट पार्टनर और क्षेत्र में हमारा सबसे बड़ा ट्रेड पार्टनर है।
कहा कि, आज प्रधानमंत्री शेख हसीना और हमने सभी द्वीपक्षीय, क्षेत्रीय सहित सभी मुद्दों पर व्यापक चर्चा की है। हमारा मानना है कोविड और हालिया अंतर्राष्ट्रीय घटनाक्रमों से सीख लेकर हमें अपनी अर्थव्यवस्थाओं को मजबूत करना है। दोनों देशों के बीच कनेक्टिविटी और सीमाओं पर इंफ्रास्ट्रक्चर के विक्रात से दौनों देशों की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। इससे हम एक दूसरे से अच्छी तरह जुड़ेंगे और एक दूसरे का सहयोग कर पाएंगे।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बांग्लादेश के निर्यात के लिए आज दुनिया में भारत सबसे बड़ा मार्केट है। हमने आईटी और अंतरिक्ष और न्यूक्लियर एनर्जी जैसे सेक्टर में भी सहयोग बढ़ाने का निश्चय किया है। हम जलवायु परिवर्तन और सुंदरवन जैसे साझा धरोहर को भी संरक्षित रखने का कार्य करेंगे। आज मैत्री थर्मल पावर प्लांट की पहली यूनिट के अनावरण से बांग्लादेश एफोर्डेबल बिजली की उपलब्धता बढ़ेगी। दोनों देशों के बीच पावर ट्रांसमिशन जोड़ने पर भी उपयोगी बातचीत चल रही है। बांग्लादेश के रेलवे सिस्टम विस्तार के लिए भारत हर प्रकार के सहयोग जारी रखेगा। 54 ऐसी नदियां है जो भारत-बांग्लादेश की सीमा से होकर गुजरती हैं और दोनों देशों के बड़ी आबादी की आजीविका का स्त्रोत हैं। आज हमने कुशियारा नदी पर जल बंटवारे से संबंधित महत्वपूर्ण निर्णय पर हस्ताक्षर किया है।इससे भारत के दक्षिण असम और बांग्लादेश के सिलहट को लाभ होगा।
आखिर में बेहद महत्वपूर्ण मुद्दे पर बात रखते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज हमने आतंकवाद और कट्टरवाद पर भी जोर दिया है। 1971 की स्पिरिट को जींवत रखने के लिए यह आवश्यक है कि हम मिलकर ऐसी शक्तियों का मुकाबला करें जो हमारे आपसी विश्वास को आघात पहुंचाना चाहती हैं। बंग बंधु ने बांग्लादेश देश के लिए जो सपना देखा था उसे साकार करने के लिए भारत कदम से कदम मिलाकर चलता रहेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने शेख हसीना और डेलीगेशन टीम को भारत में सुखद प्रवास की कामना करते हुए पुनः धन्यवाद दिया।

 

Image source DD News

By Admin

error: Content is protected !!